Hamar Dhamtari

रहस्य से भरे कुटुमसर गुफा की खूबसूरती का नहीं है कोई सानी, वनवास के दौरान ठहरे थे भगवान राम

No image रहस्य और रोमांच से भरे कुटुमसर की गुफा में भगवान राम के प्रवास के भी साक्ष्य मिले हैं। इतिहासकारों के अनुसार ऋषि के आश्रम में कुछ दिन रूकने के बाद भगवान राम ने मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के जंगलों को अपना आश्रय स्थल बनाया था। यह जंगल का इलाका था दंडकारण्य। फिलहाल इस क्षेत्र को आजकल बस्तर के नाम से जाना जाता है। यहां के नदियों, पहाड़ों, सरोवरों और गुफाओं में भगवान राम के प्रवास के सबूतों की भरमार है। वनवास के दौरान भगवान राम ने अपना लंबा समय यहां बिताया था। बताया जाता है कि जो लोग उस गुफा में गए हैं उनके मुताबिक गुफा के आखिरी छोर में एक अद्भुत शिवलिंग है।

छत्तीसगढ़ के बस्तर क्षेत्र की इस गुफा में आदि काल के मानवों का निवास था। कहा जाता है कि यहां प्रागैतिहासिक काल के मानव रहा करते थे। वैज्ञानिकों के अनुसार करोड़ों वर्ष पहले यह क्षेत्र पानी में डूबा हुआ था। पानी के बहाव से ही यहां गुफाओं का निर्माण हुआ। कुटुमसर की गुफा  में गहरा अंधेरा है इसका आकार सर्पीला है। विश्व की सबसे अधिक लंबी गुफाओं में इसे दूसरे नंबर पर आंका गया है। अंदर पानी के छोटे तालाब भी हैं।

प्रगैतिहासिक काल में कुटुमसर की गुफाओं में मनुष्य रहा करते थे। फिजिकल रिसर्च लेबोरेटरी अहमदाबाद, इंस्टीटयूट आफ पेलको बॉटनी लखनऊ तथा भूगंर्भ अध्ययन शाला लखनऊ के सम्मिलित शोध से यह बात सामने आई है। विश्व प्रसिध्द बस्तर की कुटुमसर की गुफाएं कई रहस्यों को अभी भी अपने में समेटे हुए है जिनका भूगर्भ शास्त्रियों द्वारा लगातार अध्ययन किया जा रहा है। भूगर्भशास्त्रियों का कहना है कि करोड़ों वर्ष पूर्व इस क्षेत्र में कुटुमसर की गुफाएं स्थित है। वह क्षेत्र पूरी तरह से पानी में डूबा हुआ था। गुफाओं का निर्माण प्राकृतिक परिवर्तनों के साथ-साथ पानी के बहाव के कारण हुआ।

330 मीटर लंबी गुफा

कुटुमसर की गुफाऐं जमीन से 55 फीट नीचे है व इनकी लंबाई कुल 330 मीटर है। इस गुफा के भीतर कई पूर्ण विकसित कक्ष है जो 20 से 70 मीटर तक चौड़े है। फिजिकल रिसर्च लेबोरेटरी अहमदाबाद के शोधकर्ताओं ने इन्हीं कक्षों के अध्ययन के बाद निष्कर्ष पर पहुंचे है कि करोड़ों वर्ष पूर्व यहां के आस पास के लोग इन गुफाओं में रहा करते थे। संभवत: यह प्रगैतिहासिक काल था। चूना पत्थर से बनी कुटुमसर की गुफाओं के आंतरिक और बाह्य रचना के अध्ययन के उपरांत भूगर्भशास्त्री कई निष्कर्ष  पर पहुंचे हैं। उदाहरण के लिये चूना पत्थर के रिसाव कार्बन डाईक्साइउ तथा पानी की रासायनिक क्रिया से सतह से लेकर छत तक अद्भूत प्राकृतिक संरचनाएं गुफा के अंदर बन चुकी हैं। विश्व की सबसे लम्बी इस गुफा की लंबाई 4500 मीटर है।

चूना पत्थर के जमने से बनी है संरचनाएं

चूना पत्थर के घुलने से बनी ये गुफाएं अपनी संरचनाओं के कारण प्रसिद्ध है। चूनापत्थर के जमाव के कारण स्टलेगटाईट, स्टलेगमाईट एवं ड्रिपस्टोन जैसी संरचनायें बन जाती हैं। छत पर लटकते झूमर स्टलेग्टाईट, जमीन से ऊपर जाते स्तंभ स्टलेगमाईट एवं छत एवं जमीन से मिले बड़े-बड़े स्तंभ ड्रिप स्टोन कहलाते हैं। डॉ.शंकर तिवारी ने प्रथम बार इस गुफा का वर्णन किया था।

अंधेरे ने छीन ली है मछलियों की आंखें

इस गुफा में छोटे-छोटे पोखर स्थित हैं जिनमें पाई जाने वाली छोटी-छोटी मछलियों की आंखें नहीं है। वैज्ञानिकों का मानना है कि सदियों से अंधेरे में रहने के कारण इनकी आंखों की उपयोगिता खत्म हो गई है। अब ये जन्म से ही अंधी पैदा होती हैं जो कि डार्विन के सिद्धांत की पुष्टी करती है। पानी से घिरी हुई यह अंधेरी कुटुमसर गुफा में अंधी मछलियां रहती हैं। यह गुफाएं काफी पुरानी है और अंधी मछलियों के लिए यह मशहूर है। जहां सूरज की रौशनी नहीं पहुंचती जिसकी वजह से आने वाला व्यक्ति पूरी तरह खुद को अंधा सा महसूस करता है। यही वजह है कि यहां कि मछलियों की आंखों पर भी पतली सी झिल्ली चढ़ चुकी है, जिससे वे पूरी तरह से अंधी हो गई है।

hamar-dhamtari-whatsapp-logoShare

Comments on News

इन्हें भी देखे

dhamtari news छत्तीसगढ़ के बच्चे स्कूलों में पढ़ाई करने के साथ-साथ हुनरमंद बनेंगे - भूपेश बघेल
dhamtari news पोषण बाड़ी विकास कार्यक्रम से अब किसानों की आमदनी में इजाफा
dhamtari news प्रदेश में 16 सितम्बर को 2 लाख 14 हजार से अधिक लोगों का कोरोना टीकाकरण
dhamtari news छत्तीसगढ़ में अब तक 1030.2 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज
dhamtari news मिनीमाता हसदेव बांगो बांध के खोले गए तीन गेट
dhamtari news राजीव गांधी किसान न्याय योजना में उद्यानिकी किसानों को भी मिलेगा लाभ, फल-फूल, सब्जी और मसाले की खेती में सब्सिडी
dhamtari news राज्य में 12 लाख 24 हजार 188 मीट्रिक टन रासायनिक उर्वरक का वितरण
dhamtari news छत्तीसगढ़ में आज कोरोना के 31 नए मरीजों की पहचान, 29 संक्रमित हुए ठीक
dhamtari news खरीफ फसलों की बोनी के लिए 9 लाख 9 हजार क्विंटल बीज वितरित
dhamtari news 46 लाख 64 हजार 290 हेक्टेयर में हो चुकी खरीफ फसलों की बुआई, खरीफ की 97 फीसद बोनी पूरी

Follow Us

विडियो

Email : hamardhamtari@gmail.com