Hamar Dhamtari

पूर्व विदेश मंत्री और भाजपा नेत्री सुषमा स्वराज का निधन

दिल्ली में सात दिन का राजकीय शोक

No image
 दोपहर 3 बजे होगा राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार
नई दिल्ली- पूर्व विदेश मंत्री और भाजपा नेत्री सुषमा स्वराज
का निधन कल रात 11.30 मिनट पर दिल्ली के एम्स अस्पताल में हो गया। वे काफी समय से अस्वस्थ चल रहीं थी। उनकी मृत्यु दिल का दौरा पड़ने से दिल्ली के एम्स अस्पताल में हुई। जहां उन्होंने अंतिम सांस ली। वे 67 साल की थी।                                                                                सुषमा स्वराज की किडनी फेल हो गई थी। डॉक्टरों ने डायलिसिस किया था। बीमारी के चलते ही वे इस बार लोकसभा चुनाव नहीं लड़ी और राजनीतिक से सन्यास ले लिया था।कल शाम उन्हें हार्ट अटैक आया था। एम्स के डॉक्टर हर संभव प्रयास किया, लेकिन बचा नहीं पाए। स्वराज की तबीयत खराब होने की सूचना मिलने पर केंद्रीय मंत्री हरवर्षधन व नितिन गडकरी पहुंचे हैं। सुषमा स्वराज के पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन करने के लिए उनके निवास स्थान पर रखा गया है। उनके अंतिम दर्शन के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, गृह मंत्री अमित शाह, जेपी नड्डा, विजय गोयल, कैलाश विजयवर्गी, शाहनवाज चौधरी, के अलावा भाजपा और कांग्रेस की नेता सोनिया गांधी, राहुल गांधी सहित बहुत से नेता पहुंचे और श्रद्धांजलि दी।
  भाजपा कार्यालय दिल्ली में उनके पार्थिव शरीर को दोपहर 12:00 बजे कार्यकर्ताओं के अंतिम दर्शन के लिए रहा जावेगा। जहां उनके चाहने वाले उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे। गृह मंत्री अमित शाह ने कहा सुषमा स्वराज के जाने से हमारे जीवन में राजनीति सुन्नता आ गई है। देश उनकी सेवाओं को हमेशा हमेशा के लिए याद करेगा।

राजनीतिक सफर नामा

   लोगों की मदद के लिए हर हमेशा तैयार रहने वालीं पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के राजनीतिक करियर की शुरुआत आपातकाल के दौरान हुई थी। राजनीति में उनकी सुरुवात 1977 में तब हुई जव वह हरियाणा से विधायक चुनी गईं। 1977-1979 में ही वह राज्य में चौधरी देवी लाल की सरकार में श्रम मंत्री बनाई गईं। सुषमा स्वराज  25 साल की उम्र में ही मंत्री बन गईं थी। उस समय सबसे कम उम्र में मंत्री होने का रिकॉर्ड रहा।  

        साल 1990 में वह पहली बार चुनकर सांसद भवन पहुंची। वह 1996 में अटल बिहारी वाजपेयी की 13 दिनों की सरकार में सूचना व प्रसारण मंत्री बनी थीं। साल 1998 में उन्हें दिल्ली के मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी दी गई और वह दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री बनीं। 2014 में विदिशा से लोकसभा चुनाव जीतने के बाद वह पहली महिला विदेश मंत्री भी बनीं। विदेश मंत्री के तौर में उनका कार्यकाल हमेशा याद किया जाएगा।

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 खत्म होने के बाद सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर प्रधानमंत्री मोदी को बधाई दी थी। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि प्रधान मंत्री जी – आपका हार्दिक अभिनन्दन। मैं अपने जीवन में इस दिन को देखने की प्रतीक्षा कर रही थी।

hamar-dhamtari-whatsapp-logoShare

Comments on News

इन्हें भी देखे

dhamtari news 67 साल की उम्र में अलविदा कह गए पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली
dhamtari news जम्मू कश्मीर से संविधान के अनुच्छेद 370,35A को हटाकर बनाया गया केंद्र शासित प्रदेश
dhamtari news कश्मीर में धारा 144 लागू स्कूल कॉलेज बंद रहेंगे, 4 से ज्यादा लोगों के बाहर निकलने पर मनाही
dhamtari news भारत के सारे मैच जानिए कब, कहां और कितने समय देख सकेंगे
dhamtari news महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में बड़ा नक्सली हमला, हमले में 15 जवानों के शहीद होने की खबर
dhamtari news किसानों और दुकानदारों को पेंशन के ऐलान के साथ जारी हुआ भाजपा के नए युग का घोषणा पत्र
dhamtari news किसानों और दुकानदारों को पेंशन के ऐलान के साथ जारी हुआ भाजपा के नए युग का घोषणा पत्र
dhamtari news कांग्रेस का घोषणापत्र - अगर सरकार बनी तो कृषि के लिए अगल से किसान बजट लायेंगे, हटाया जाएगा राष्ट्रद्रोह का केस
dhamtari news नहीं रहे गोवा के मुख्यमंत्री पार्रिकर.. लंबे समय से चल रहे थे बीमार
dhamtari news 4 रन से हारा भारत

Follow Us

विडियो

Email : hamardhamtari@gmail.com