Hamar Dhamtari

आज भी लोग बड़े चाव से खरीदते हैं उनकी तस्वीर

वेलेंटाइन डे वाले दिन जन्मीं इस खूबसूरत अदाकारा के प्यार झलकता था हर अंदाज में

No image

मधुबाला और वैलेंटाइन डे, मानो दोनों एक दूसरे के लिए अपने आप में उपमा हो,परिचय हों। उनकी वो गुलाबी हंसी जिसपर हर कोई आज तक फिदा है। इसे संयोग कहा जाए या कुछ कि वह मुमताज जहां देहलवी के तौर पर 14 फरवरी, 1933 को दिल्ली में जन्मी और मधुबाला के नाम से मशहूर हुईं।

                मधुबाला का नाम हिंदी सिनेमा की उन अभिनेत्रियों में शामिल है, जो पूरी तरह सिनेमा के रंग में रंग गईं और अपना पूरा जीवन इसी के नाम कर दिया। उन्हें अभिनय के साथ-साथ उनकी अभुद्त सुंदरता के लिए भी जाना जाता है। उन्हें 'वीनस ऑफ इंडियन सिनेमा' और 'द ब्यूटी ऑफ ट्रेजेडी' जैसे नाम भी दि गए। इनके पिता का नाम अताउल्लाह और माता का नाम आयशा बेगम था। शुरुआती दिनों में इनके पिता पेशावर की एक तंबाकू फैक्ट्री में काम करते थे। वहां से नौकरी छोड़ उनके पिता दिल्ली, और वहां से मुंबई चले आए, जहां मधुबाला का जन्म हुआ।
                     वेलेंटाइन डे वाले दिन जन्मीं इस खूबसूरत अदाकारा के हर अंदाज में प्यार झलकता था। उनमें बचपन से ही सिनेमा में काम करने की तमन्ना थी, जो आखिरकार पूरी हो गई। मधुबाला ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत वर्ष 1942 की फिल्म 'बसंत' से की थी। यह काफी सफल फिल्म रही और इसके बाद इस खूबसूरत अदाकारा की लोगों के बीच पहचान बनने लगी। इनके अभिनय को देखकर उस समय की जानी-मानी अभिनेत्री देविका रानी बहुत प्रभावित हुई और मुमताज जेहान देहलवी को अपना नाम बदलकर 'मधुबाला' के नाम रखने की सलाह दी।
             वर्ष 1947 में आई फिल्म 'नील कमल' मुमताज के नाम से आखिरी फिल्म थी। इसके बाद वह मधुबाला के नाम से जानी जाने लगीं। इस फिल्म में महज चौदह वर्ष की मधुबाला ने राजकपूर के साथ काम किया। 'नील कमल' में अभिनय के बाद से उन्हें सिनेमा की 'सौंदर्य देवी' कहा जाने लगा। इसके दो साल बाद मधुबाला ने बॉम्बे टॉकिज की फिल्म 'महल' में अभिनय किया और फिल्म की सफलता के बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा।
मधुबाला ने उस समय के सबसे सफल अभिनेता अशोक कुमार, रहमान, दिलीप कुमार और देवानंद जैसे दिग्गज कलाकारों के साथ काम किया।वर्ष 1950 के दशक के बाद उनकी कुछ फिल्में असफल भी हुईं। असफलता के समय आलोचक कहने लगे थे कि मधुबाला में प्रतिभा नहीं है बल्कि उनकी सुंदरता की वजह से उनकी फिल्में हिट हुई हैं। इन सबके बाबजूद मधुबाला कभी निराश नहीं हुईं। कई फिल्में फ्लॉप होने के बाद 1958 में उन्होंने एक बार फिर अपनी प्रतिभा को साबित किया और उसी साल उन्होंने भारतीय सिनेमा को 'फागुन', 'हावड़ा ब्रिज', 'काला पानी' और 'चलती का नाम गाड़ी' जैसी सुपरहिट फिल्में दीं।
             वर्ष 1960 के दशक में मधुबाला ने किशोर कुमार से शादी कर ली। शादी से पहले किशोर कुमार ने इस्लाम धर्म कबूल किया और नाम बदलकर करीम अब्दुल हो गए। उसी समय मधुबाला एक भयानक रोग से पीड़ित हो गई। शादी के बाद रोग के इलाज के लिए दोनों लंदन चले गए। लंदन के डॉक्टर ने मधुबाला को देखते ही कह दिया कि वह दो साल से ज्यादा जीवित नहीं रह सकतीं। इसके बाद लगातार जांच से पता चला कि मधुबाला के दिल में छेद है और इसकी वजह से इनके शरीर में खून की मात्रा बढ़ती जा रही थी। डॉक्टर भी इस रोग के आगे हार मान गए और कह दिया कि ऑपरेशन के बाद भी वह ज्यादा समय तक जीवित नहीं रह पाएंगी। इसी दौरान उन्हें अभिनय छोड़ना पड़ा। इसके बाद उन्होंने निर्देशन में हाथ आजमाया।
              वर्ष 1969 में उन्होंने फिल्म 'फर्ज' और 'इश्क' का निर्देशन करना चाहा, लेकिन यह फिल्म नहीं बनी और इसी वर्ष अपना 36वां जन्मदिन मनाने के नौ दिन बाद 23 फरवरी,1969 को बेपनाह हुस्न की मलिका दुनिया को छोड़कर चली गईं।उन्होंने लगभग 70 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया। उन्होंने 'बसंत', 'फुलवारी', 'नील कमल', 'पराई आग', 'अमर प्रेम', 'महल', 'इम्तिहान', 'अपराधी', 'मधुबाला', 'बादल', 'गेटवे ऑफ इंडिया', 'जाली नोट', 'शराबी' और 'ज्वाला' जैसी फिल्मों में अभिनय से दर्शकों को अपनी अदा का कायल कर दिया।
              मधुबाला भले ही अब इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन मनोरंजन-जगत में उनका नाम हमेशा अमर रहेगा। उनकी तस्वीर वाले बड़े-बड़े पोस्टर आज भी लोग बड़े चाव से खरीदते हैं।

hamar-dhamtari-whatsapp-logoShare

Comments on News

इन्हें भी देखे

dhamtari news लागों ने रात 9 बजे जलाए दीये, बजाई घण्टियाँ और शंख, फोड़े पटाखे छत्तीसगढ़ के सुदूर इलाके दंतेवाडा में लोगों ने किया दीप प्रज्वलित
dhamtari news क्वारंटाइन में रखे गए जमातियों ने महिला नर्सों के साथ की अश्लील हरकतें गाजियाबाद में सेवा दे रही नर्साें ने लगाया आरोप, मामला हुआ दर्ज
dhamtari news स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किया कराेना का आंकडा: पिछले 24 घंटे में 386 नए मामले, तीन लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या हुई 1,637
dhamtari news कोरोना वायरस पर मन की बात- हालात की गंभीरता को नहीं समझ रहे कुछ लोग , करे लॉक डाउन का पालन -प्रधानमंत्री मोदी
dhamtari news देश में कोरोना मरीजों की संख्या 1026 तक पहुंची और मरने वालों की संख्या 27 तक , केन्द्र सरकार हुई सख्त, राज्यों की सीमा को सील करने का दिया निर्देश
dhamtari news नागपुर में कोरोना वायरस के बारे में गलत जानकारी फैलाने वाले ऑडियो क्लिप से फैली दहशत,प्रशासन ने कहा ये अफवाह है , तीन की हुई गिरफ्तारी
dhamtari news 25 करोड़ रुपए दान किए अक्षय कुमार ने मदद के लिए हांथ बढाया अक्षय कुमार ने,
dhamtari news नागपुर में फंसे हैं छत्तीसगढ़ के 13 निर्माण श्रमिक और दो बच्चे, पुलिस ने की भोजन की व्यवस्था
dhamtari news 1 लाख 70 हजार करोड़ के पैकेज का ऐलान किया वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ऐलान, पैसा सीधा खाते में ट्रांसफर होगा,सरकार ने गरीबों को दी बड़ी राहत ,
dhamtari news पूरे देश में 21 दिनों के लिए संपूर्ण लॉकडाउन आज रात 12 बजे से , लोगों से घरों में रहने को कहा , जान है तो जहान है

Follow Us

विडियो

Email : hamardhamtari@gmail.com