जोहार आदिवासी कला मंच का प्रांतीय सम्मान समारोह एवं काव्य गोष्ठी, 70 कलाकार और साहित्यकारों का सम्मान

धमतरी। धमतरी जिले के नगरी विकासखण्ड की आदिवासी हल्बा समाज शक्ति सदन में प्रदेश स्तरीय जोहार आदिवासी कला मंच के तत्वाधान में 26 नवंबर संविधान दिवस के शुभ अवसर पर जोहार आदिवासी कला मंच ने प्रदेश स्तरीय वार्षिक सम्मान समारोह एवं काव्य पाठ एवं विभिन्न कला प्रदर्शनी का आयोजन नगरी नगर में किया । कार्यक्रम के दौरान छत्तीसगढ़ के अलग-अलग जिलों से पहुंचे सैकड़ो की संख्या में आदिवासी कलाकार, कवि, लेखक,साहित्यकार, खिलाड़ी तथा कला प्रेमी अपनी आदिवासी वेशभूषा में सम्मिलित हुए।कार्यक्रम के मुख्य अतिथि रहे राष्ट्रीय स्तर पर पद्मश्री सम्मानित अजय कुमार मंडावी, अतिविशिष्ट अतिथि रूपराय नेताम शहीद वीर नारायण सिंह सम्मान छत्तीसगढ़ शासन,अति जीवराखन लाल मरई जिलाध्यक्ष सर्व आदिवासी समाज, उमेश देव तह.अध्यक्ष सर्व आदिवासी समाज, रैनलाल देव अध्यक्ष हल्बा समाज तहसील नगरी,राम प्रसाद मरकाम अध्यक्ष गोंडवाना समाज तहसील नगरी,छेद प्रकाश कौशिल अध्यक्ष ध्रुव गोंड समाज तहसील नगरी,रहे।कार्यक्रम की अध्यक्षता पूरणमल ध्रुव प्रांतीय अध्यक्ष जोहार आदिवासी कला मंच ने किया ।

उपस्थित अतिथियों के कर कमलों से पेन पुरखा की अर्जी विनती के साथ गोंडी भाषा में राज गीत गाकर कार्यक्रम की शुरुआत की गई,गोंडी भाषा में राजकीय गीत की प्रस्तुति लया ज्योति मंडावी ने दी। संविधान के प्रस्तावना के वाचन के बाद उपस्थित अतिथियों ने अपने संक्षिप्त उद्बोधन से आदिवासी समाज के होनहार प्रतिभाओं को आगे बढ़ाने में जोहार मंच की इस पहल का मुक्त कंठ से प्रशंसा करते हुई समाज में जागृति एवं अपने हक अधिकार को जानने एवं समझने की बात कही गई । समाज के कवियों द्वारा अलग-अलग विषयों पर काव्य पाठ किया गया । समाज के होनहार व्यक्तियों को आदिवासी गौरव सम्मान से नवाजा गया,इसके साथ पंजीकृत प्रतिभाओं का भी सम्मान किया गया।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?

Notifications