जांजगीर की पहचान है जाज्वल्यदेव लोक महोत्सव: ओ.पी. चौधरी

वित्त मंत्री ने जाज्वल्यदेव लोक महोत्सव एवं एग्रीटेक कृषि मेला का किया शुभारंभ
2700 से अधिक हितग्राहियों को 4.10 करोड़ रुपए का चेक वितरण, पोषण रथ को भी किया गया रवाना

रायपुर। वित्त एवं वाण्रिज्य कर मंत्री तथा जांजगीर-चांपा जिले के प्रभारी मंत्री श्री ओ पी चौधरी ने आज जांजगीर में आयोजित तीन दिवसीय जाज्वल्यदेव लोक महोत्सव एवं एग्रीटेक कृषि मेला 2024 का शुभारंभ किया। मंत्री श्री चौधरी ने इस मौके पर शासन के विभिन्न योजनाओं के तहत 2734 हितग्राहियों को 4 करोड़ 10 लाख रुपए से अधिक की राशि का चेक वितरित किया। उन्होंने इस दौरान स्वास्थ्य विभाग द्वारा टी बी के प्रति जागरूकता संदेश देने के लिए पोषण रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना भी किया। कार्यक्रम में जिले में शैक्षणिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए यूनिसेफ के साथ मिलकर क्या सीखा एवं विनोबा फाउंडेशन के साथ एमओयू भी किया गया। मंत्री श्री चौधरी ने जाज्वल्या पत्रिका के 2024 के संस्करण का विमोचन किया।

वित्त मंत्री ने कार्यक्रम के दौरान मुख्य मंच से सैनिक अग्निवीर भर्ती में निःशुल्क प्रशिक्षण प्रदान करने वाले पूर्व सैनिकों का सम्मान किया। इन सैनिकों के प्रयास से 220 अभ्यर्थियों का चयन हुआ है। ओडीएफ प्लस के बेहतर कार्य करने के लिए जिला पंचायत को भी सम्मानित किया गया। शुभारंभ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि ओ पी चौधरी ने कहा कि जाज्वल्यदेव लोक महोत्सव एवं एग्रीटेक कृषि मेला जांजगीर-चांपा जिले का प्रतिष्ठा पूर्ण आयोजन है। यह महोत्सव हमारे संस्कृति एवं जांजगीर की पहचान है। हम विकसित भारत की संकल्पना को सकार करने के लिए मोदी के गांरटी के तहत एक विजन छत्तीसगढ़ के रूप में कार्य कर रहें है। आठ हप्तो के हमारी अल्पकालिक सरकार में ही हमने किसानों से लेकर युवाओं तक के लिए सकारात्मक कार्य किये हैं। हमने 25 दिसम्बर को सुशासन दिवस के मौके पर ही राज्य के 12 लाख से अधिक किसानों को 37 सौ करोड़ से अधिक का बोनस का वितरण किया गया था।

पहली कैबिनेट में हमने 18 लाख आवासों को स्वीकृति प्रदान करते हुए गरीबो को छाव देने के प्रयास किया है। इसके लिए हमने अनुपूरक बजट में 3800 करोड़ एवं कल की बटज में 7000 करोड़ का प्रावधान रखें हैं। कृषि उन्नति योजना के लिए 10 हजार करोड़, घर-घर तक स्वच्छ जल मिले इसके लिए हमने जल जीवन मिशन के लिए 4500 करोड़ एवं महतारी वंदन के लिए 3 हजार करोड़ का प्रावाधान किया गया है। युवाओं को बेहतर भविष्य एवं दिशा देने के लिए रायपुर के नालंदा के तर्ज पर राज्य के 22 जगहों में डिजिटल लाईब्रेरी बनाने का लक्ष्य रखा गया है। जिसमें से निश्चित रूप से जांजगीर-चांपा में भी हम बेहतर लाईब्रेरी बनायेंगे। इसके साथ स्थनीय विधायकों एवं जन प्रतिनिधियों ने विभिन्न मांग रखे। जिस पर श्री ओपी चौधरी ने पूर्ण आश्वासन देते हुए 5 वर्षों में ही सभी मांग को पूर्ण करने के लिए आश्वस्त किये। मलखम्भ के प्रदर्शन करने वाले युवाओं को 25000 रूपए देने की घोषणा की गई। कार्यक्रम को पूर्व विधायक श्री नारायण चंदेल ने भी संबोधित किया।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?

Notifications