पुलिस कार्यालय धमतरी में कार्यशाला का आयोजन, नये भारतीय अपराध-कानूनों की दी गई जानकारी

 कार्यशाला में जिले के राजपत्रित अधिकारी,थाना प्रभारी सहित विवेचना अधिकारी हुए शामिल

धमतरी। पुलिस अधीक्षक प्रशांत ठाकुर के निर्देश पर सभी राजपत्रित अधिकारी एवं थाना चौकी प्रभारियों कि नये भारतीय अपराध कानूनो की जानकारी के संबंध में एक दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गई । पुलिस कार्यालय के सभाकक्ष में थाना प्रभारियों एवं थानों में पदस्थ विवेचकों की हाल ही में बने नये भारतीय अपराध कानूनो के संबंध में जानकारी देने तथा उसके अनुसार विवेचना करने हेतु 1 दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया।
कार्यशाला में पुलिस अधीक्षक प्रशांत ठाकुर,अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मधुलिका सिंह,जिला अभियोजन अधिकारी अजय सिंह द्वारा नये भारतीय अपराध कानूनो (भारतीय न्याय संहिता 2023, भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता 2023 एवं भारतीय साक्ष्य संहिता 2023) के संबंध में जानकारी दी गई । धमतरी सहित कई थानों के थाना प्रभारी तथा थानों में पदस्थ विवेचक सहित अधिक संख्या में पुलिस अधिकारी शामिल रहें।
कार्यशाला पुलिस अधीक्षक ने भी नए कानूनों की आवश्यकता एवं मूलभूत दृष्टिकोण में आये बदलाव के सन्दर्भ में विस्तृत व्याख्यान दिए। सभी थाना प्रभारियों एवं विवेचको को नए कानूनों के सन्दर्भ में बताते हुए उनके सम्बन्ध में अध्ययन करने एवं पूरी जानकारी रखने निर्देशित किये जिससे की इनके क्रियान्वयन होंते समय किसी प्रकार की समस्या न हो।


नये भारतीय न्याय संहिता 2023, भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता 2023 एवं भारतीय साक्ष्य संहिता 2023 के संबंध में विस्तृत जानकारियां दी गई एवं विवेचको के प्रश्नों एवं शंकाओ का निराकरण किये। कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य थाना प्रभारियों एवं थानों में पदस्थ विवेचकों को नये भारतीय अपराध कानूनो के अनुसार अपराधों की विवेचना हेतु उन्हें तैयार करना एवं उसकी जानकारियां देना रहा। आगे भी इस प्रकार की कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा।
कार्यशाला में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मधुलिका सिंह,उप पुलिस अधीक्षक नेहा पवार,उप पुलिस अधीक्षक अजाक रागिनी मिश्रा, उप पुलिस अधीक्षक भावेश साव,एसडीओपी.कुरूद के.के.वाजपेयी, एसडीओपी.नगरी मयंक रणसिंह,उप पुलिस अधीक्षक यातायात मणिशंकर चंद्रा,परि.उप पुलिस अधीक्षक विंकेश्वरी पिंदे,रक्षित निरीक्षक दीपक शर्मा,थाना/चौकी प्रभारी, यातायात प्रभारी सहित,समस्त शाखा प्रभारी,सूबेदार,स्टेनो, रीडर सहित अधिकारी/ कर्मचारी उपस्थित थे।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?

Notifications