दूरस्थ क्षेत्रों में बैंकिंग सेवाएं पहुंचाने में उत्कृष्ट कार्य करने वाली बीसी सखियों का सम्मान

रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान) के अंतर्गत डिजिटल फाइनेंस के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाली और दूरस्थ क्षेत्रों में बैंकिंग सेवाएं प्रदान करने वाली 15 बीसी सखियों को शुक्रवार को सम्मानित किया गया। स्वसहायता समूहों में डिजिटल लेन-देन को प्रोत्साहित करने बैंकों द्वारा शुरू की गई दोहरी प्रमाणीकरण (Dual Authentication) की प्रक्रिया में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 12 बैंकर्स का भी सम्मान किया गया। डिजिटल फाइनेंस के लिए तकनीकी सहायता एजेंसी सीएससी ई-गर्वनेंस सर्विसेज इंडिया लिमिटेड द्वारा रायपुर के एक निजी होटल में आयोजित डिजिटल मड़ई में बीसी सखियों और बैंकर्स को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में बीसी सखियों की सफलता की कहानियों पर आधारित पुस्तिका का विमोचन भी किया गया।

डिजिटल मड़ई कार्यक्रम में बीसी सखी के रूप में सर्वाधिक आय अर्जित करने वाली धमतरी जिले की सुनीता साहू, रायपुर की प्रियंका साहू, कोरिया की रनिया कुमारी तथा राजनांदगांव जिले की ऋतु श्रीवास और ममता पटेल को सम्मानित किया गया। स्थानीय लोगों को बैंकिंग सेवाएं प्रदान करने के लिए सर्वाधिक ट्रांजैक्शन करने वाली बीसी सखियों कोरिया जिले की सुनीता कुमारी, बलरामपुर-रामानुजगंज की संगीता खलखो, कांकेर की पुष्पा बाई, गरियाबंद की खेमेश्वरी तिवारी और रायगढ़ की नेमिका पटेल को भी डिजिटल मड़ई में पुरस्कृत किया गया। बीसी सखी के रूप में ग्रामीणों को सर्वाधिक सेवाएं प्रदान करने वाली रायपुर जिले की नीलम साहू, कबीरधाम की संगीता भास्कर, राजनांदगांव की नागेश्वरी सिन्हा, रायगढ़ की कलावती राठिया और दुर्ग की तारा साहू को भी सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में इन बीसी सखियों ने अपने काम के अनुभव भी साझा किए।

डिजिटल मड़ई में स्वसहायता समूहों में डिजिटल लेन-देन को प्रोत्साहित करने बैंकों द्वारा शुरू की गई दोहरी प्रमाणीकरण (Dual Authentication) की प्रक्रिया में उत्कृष्ट कार्य करने वाले शाखा प्रबंधकों को भी सम्मानित किया गया। इनमें छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण बैंक कुरंदी, बस्तर के शाखा प्रबंधक सी.आर. ठाकुर, छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण बैंक छाती, धमतरी के शाखा प्रबंधक प्रदीप सिंह ठाकुर, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया धमतरी के शाखा प्रबंधक बाबुल सिंह, बैंक ऑफ महाराष्ट्र जामगांव (जी), धमतरी के शाखा प्रबंधक दिलीप बेहरा, छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण बैंक हल्बा, कांकेर के शाखा प्रबंधक साहिल केशरवानी, बैंक ऑफ बड़ौदा कसवाही, कांकेर के शाखा प्रबंधक मोतीलाल पंडा, भारतीय स्टेट बैंक आतुरगांव, कांकेर के शाखा प्रबंधक पुरुषोत्तम परयाते, छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण बैंक विश्रामपुरी, कोंडागांव के शाखा प्रबंधक सी.एस. मंडावी, बैंक ऑफ बड़ौदा समोदा, रायपुर के शाखा प्रबंधक हेमंत महाजन, पंजाब नेशनल बैंक माना, रायपुर के शाखा प्रबंधक ब्रीजिर टोप्पो, छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण बैंक खैरागढ़ के शाखा प्रबंधक अनुज खरे और छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण बैंक उदयपुर, सरगुजा के शाखा प्रबंधक सत्यवीर सिंह शामिल हैं।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?

Notifications