गर्मी के दिनों में मरीजों और परिजनों को नहीं होगी परेशानी

महासमुंद @ मनीष सरवैया। सूर्य देव ने फरवरी माह से ही अपना रूप दिखाना शुरू कर दिया है। लिहाजा मई जून के महीने में सूरज का पारा 42 से 45 डिग्री पहुंच जाती है। गर्मी बढ़ने से मौसमी बीमारी भी बढ़ती है। महासमुंद जिला हॉस्पिटल के जिला मेडिकल अस्पताल बनने के बाद से मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही ही। गर्मी के दिनों में मौसमी बीमारियों की वजह से जिला मेडिकल अस्पताल में मरीजों की संख्या बढ़ जाती है। जिला मेडिकल अस्पताल पहुंचने वाले मरीजों को गर्मी से काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। वहीं पीने के पानी की समस्या भी होती रही है।
महासमुंद ज़िला मेडिकल कालेज के अधीक्षक डॉ बसंत महेश्वरी ने जानकारी देते हुए बताया है कि इस वर्ष गर्मी के पहले ही कूलर पंखे और एसी की पर्याप्त व्यवस्था मेडिकल कॉलेज ने कर रखी है। वार्डों में चलने वाले कूलर में पानी डालने के लिए एक व्यक्ति रख लिए गया है, जो दिन में दो बार कुलारों में पानी डालेगा। डॉ बसंत महेश्वरी ने आगे कहा है कि गर्मी के दिनों में खास कर लू के वक्त जब तक कोई जरूरी काम ना हो दोपहर में घर से बाहर ना निकले, निकले भी तो साथ में पानी की बोतल रखे साथ ही चेहरे को ढक कर रखे।

Leave a Comment

Notifications