बच्चों की देखभाल के साथ ही माताएं कर रहीं अपना व्यवसाय

पोषण पुनर्वास केन्द्र नगरी में विशेष जनजाति कमार बच्चों का किया जा रहा उपचार

प्रदीप साहू @ नगरी। कलेक्टर नम्रता गांधी के निर्देश पर जिले में विशेष जनजाति कमार परिवारों को काफी सुविधायें मुहैय्या कराई जा रहीं हैं। जिले के वनांचल क्षेत्र नगरी में पोषण पुनर्वास केन्द्र में कमार वर्ग के कुपोषित बच्चों का उपचार किया जा रहा है। इसके तहत बच्चों को पोषण पुनर्वास केन्द्र में दिये जा रहे सुविधाओं के अलावा आयुष विभाग द्वारा बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिये स्वर्ण प्राशन, बच्चों के मानसिक एवं शारीरिक विकास हेतु आयुर्वेद निरापद औषधियां भी दी जा रहीं हैं। इसके अलावा सभी बच्चों को चन्दनबाला लाक्षादि एवं अन्य औषधीय तेल से मालिश किया जा रहा है, ताकि कुपोषित बच्चों के शारीरिक एवं मांस पेशियों तथा हड्डियों में मजबूती प्रदान की जा सके।

जिला प्रशासन के विशेष पहल पर उक्त कुपोषित बच्चों की माताओं द्वारा पोषण पुनर्वास केन्द्र में ही बच्चों की देखभाल के साथ ही उनके व्यवसाय का भी अवसर दिया जा रहा है, ताकि उनका आर्थिक नुकसान ना हो। पोषण पुनर्वास केन्द्र नगरी में 11 कुपोषित बच्चे हैं। इनमें गोंदलालनाला की अनिता, गितकारमुड़ा के कबीर, पिपरहीभर्री के तामेश्वर, रेणुका, रिया, रॉकी, लक्की, रितिका, समीर और अमित शामिल हैं। गौरतलब है कि आज मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एस.के.मंडल सहित डॉ.कौशिक, तत्कालीन सीएमएचओ शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ.बीरेन्द्र साहू ने पोषण पुनर्वास केन्द्र नगरी में भर्ती कमार बच्चों के स्वास्थ्य एवं उन्हें दिये जा रहे सुविधाओं का जायज़ा लिया गया।

Leave a Comment

[democracy id="1"]

Notifications